भारतीय फिल्म ऑस्कर अवार्ड में नामांकित हुई, मगर नहीं जीत पाईं अवॉर्ड 

Oscar award

सिनेमा जगत का सबसे बड़ा अवार्ड ऑस्कर जो दुनिया में अपनी एक अलग पहचान रखता है। हाल ही में 94वें एकेडमी अवॉर्ड्स का आयोजन किया गया था. जिसमे कई फिल्मों ने अवार्ड अपने नाम किये. वही ऑस्कर में कई भारतीय फिल्में भी जा चुकी है हालांकि अवार्ड जीत नहीं पाई तो आइये आज जानते है कौन कौन सी भारतीय फिल्म ऑस्कर के लिए नामांकित हुई।

मदर इंडिया (Mother India)

Mother India
Mother India nominated for Oscar award, but could not win the award

साल 1957 में बनी में नरगिस और सुनील दत्त स्टारर बनी फिल्म मदर इंडिया 30 वें अकादमी पुरस्कार के लिए नामांकित होने वाली पहली भारतीय फिल्‍म थी. फिल्म गरीबी से जूझ रही एक गांव की महिला की कहानी पर आधारित थी जिसने दर्शकों के दिलों में अपनी गहरी जगह बनाई थी. इस फिल्म ने अकादमी पुरस्कार में जगह तो बनाई थी लेकिन फिल्म अवार्ड जीतने में कामयाब नहीं हुई. 30 वें अकादमी पुरस्कार में बेस्ट फिल्म का पुरस्कार द ब्रिज ऑन द रिवर क्वाई को मिला था.

सलाम बॉम्बे! (Salaam Bombay!)

Salaam Bombay
Salaam Bombay nominated for Oscar award, but could not win the award

मदर इंडिया के बाद साल 1988 में मुंबई की सड़कों पर रहने वाले बच्चों के दैनिक जीवन की कहानी बताने वाली फिल्म सलाम बॉम्बे 61 वें अकादमी पुरस्कार के लिए नामांकित होने वाली दूसरी भारतीय फिल्‍म थी. मीरा नायर के निर्देशन में बनी ये फिल्म भी अवार्ड जीतने में कामयाब नहीं हुई. 61 वें अकादमी पुरस्कार में बेस्ट फिल्म का पुरस्कार रेन-मैन ने जीता था.

लगान (Lagaan)

Lagaan
Lagaan nominated for Oscar award, but could not win the award

इसके बाद साल 2001 में आयी आमिर खान स्टारर ब्लॉकबस्टर फिल्म लगान 74 वें अकादमी पुरस्कार के लिए नामांकित होने वाली तीसरी भारतीय फिल्‍म थी.  यह फिल्म ब्रिटिश राज के दौर में वंचित ग्रामीणों द्वारा क्रिकेट के खेल में ब्रिटिश को हारने और लगान को खत्म करने की कहानी पर आधारित है. फिल्म पुरस्कार के लिए नामांकित हुई थी लेकिन ये फिल्म भी अवॉर्ड नहीं जीत पाई थी. अ ब्यूटीफुल माइंड फिल्म ने 74 वें अकादमी पुरस्कार में बेस्ट फिल्म का पुरस्कार जीता था. 

इन फिल्मों के सिवा गली बॉय (2019), अपुर संसार (1959), गाइड (1965), सारांश (1984), नायागन (1987), परिंदा (1989), अंजलि (1990), हे राम (2000), देवदास (2002), हरिचन्द्रा फैक्ट्री (2008), बर्फी (2012) और कोर्ट (2015) जैसी हिट फिल्मों को ऑस्कर के लिए भारत द्वारा भेजा गया था लेकिन ये फिल्मे ऑस्कर की रेस से बाहर हो गई थी.

Related posts